अगर कभी फंस गए हो लिफ्ट में तो ना करें यह काम, हो सकता है जान को नुकसान

- in लाइफस्टाइल

इन दिनों दिल्ली-मुंबर्इ में जगह बचाने के लिहाज से 20 से लेकर 50 मंजिला तक की इमारतें बन रही हैं। ऐसे में इन बिल्डिंगों में रहने वालों के लिए लिफ्ट का उपयोग अनिवार्य ही हो गया है। लेकिन क्या आपको पता है लिफ्ट बिल्डिंगों में रहने वालों के लिए लिफ्ट जितनी जरूरी है उतना ही जरूरी आपके लिए ये है कि आप लिफ्ट की कार्यप्रणाली को ठीक से समझें। कर्इ बार लिफ्ट के दुर्घटनाग्रस्त होने, गिर जाने या फिर अचानक बंद हो जाने की खबरें आती हैं। आपके साथ भी ऑफिस, घर या कहीं किसी जगह लिफ्ट से जाते हुए ऐसा हादसा हो सकता है। आइए जानते हैं आखिर कैसे बच सकते हैं इन बिन बताए होने वाले हादसों से।

लिफ्ट

आइए आपको बताते हैं कि बीच रास्ते में यदि लिफ्ट बंद हो जाए तो क्या करें और क्या ना करें। दरअसल, कई बार ऐसा होता है जब हम लिफ्ट में जा रहे होते है और अचानक लिफ्ट की लाइट बंद हो जाती है। उस वक्त हम बेचैन होकर लिफ्ट का बटन दबाना शुरू कर देते है, जिसका कोई फायदा नहीं होता उस वक्त हमें अपने फोन के लाइट के मदद से लिफ्ट में लगे अलार्म बंटन को दबाना चाहिए जिसे हमें गार्ड से तुरंत मदद मिलेगी।

कंगारुओं को धूल चटाने के लिए कोहली ने मैदान में उतारी युवा फ़ौज, जानें Playing XI

कुछ लोग लिफ्ट को अंदर से भी खोलने की कोशिश करते है, जिसका कोई फायदा नहीं होता है। लिफ्ट में एक पावर बटन लगा होता है, जिसे दबाने के कुछ वक्त बाद लिफ्ट चलनी शुरू हो जाती है। हमें पावर बटन दबाने के बाद धैर्य के साथ लिफ्ट में थोड़े समय तक इंतजार करना चाहिए।

बता दें लिफ्ट के अंदर कभी भी हमें सिगरेट का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। यह हमारे और साथ में मौजूद साथियों के जान के लिए खतरा भी बन सकता है।  इसके धुएं से शॉर्ट सर्किट हो सकता है।

बेटी आराध्या ने दिया मॉम ऐश्वर्या राय बच्चन को ये सरप्राइज़, जाने कितना प्यार है दोनों में

पहले से ही क्षमता से ज्यादा हों तो लिफ्ट के अंदर प्रवेश नहीं करना चाहिए। इसके अलावा लिफ्ट के दरवाजे बंद हो रहे हों तो कभी भी उसे हाथ डालकर रोकना नहीं चाहिए। कर्इ बार ये बहुत नुकसान पहुंचा सकता है। यहीं नहीं जोर-जोर से कूदना, नहीं चाहिए। बटन को बार- बार दबाना नहीं चाहिए। इस मामले में बच्चों का विशेष तौर पर ध्यान रखना चाहिए।

आपको बता दें कि लिफ्ट का निर्माण अमेरिका में रहने वाले ओटिस नाम के एक  युवक ने किया था। इसका निर्माण लगभग सवा सौ  वर्ष पहले हुआ था। लेकिन  इसका इस्तेमाल तब सही से होने लगा जब इसके अंदर स्टील की मोटर पहिया लगा कर इस्तेमाल शुरू हो गया। अब वक्त ऐसा आ गया है। बड़े शहरों में कोई भी इमारत बिना लिफ्ट के नहीं बनती। लिफ्ट के सहारे लोग एक झटके में अपने मंजिल तक पहुंच जाते हैं।